• हमें बैडमिंटन में नहीं, हर खेल में गोपीचंद चाहिए…

    BADMINTON-INDIA-SPORTS-SINDHU
    आम तौर पर कहा जाता है कि एक असफल खिलाड़ी अच्छा कोच साबित होता है। लेकिन यह कहावत भारतीय बैडमिंटन के द्रोणाचार्य पुलेला गोपीचंद पर खरी नहीं उतरती है। साल 2001 में ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप जीतने वाले पुलेला गोपीचंद एक सफल बैडमिंटन खिलाड़ी रहे हैं लेकिन बतौर कोच वह ज्यादा सफल हो रहे हैं। लगातार दो ओलंपिक खेलों में देश के लिए पदक जीतने वाले खिलाड़ियों में एक चीज कॉमन है कि दोनों के कोच पुलेला गोपीचंद ही थे।

    [Read More…]

  • खेलों के विकास के लिए व्यापक सोच की जरूरत : पुलेला गोपीचंद

    121रियो ओलंपिक मजह छह-सात महीने दूर हैं,  बतौर बैंडमिंटन के राष्ट्रीय कोच आपको भारत के कैसे प्रदर्शन की आशा है?

    अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन जिस तरह का प्रदर्शन भारतीय खिलाड़ी विभिन्न प्रतियोगिताओं में कर रहे हैं, उससे लगता है कि ओलंपिक में बड़ा भारतीय दल भाग लेगा. एक बार खिलाड़ी ओलंपिक के  लिए क्वालीफाई कर लें, उसके  बाद हम खिलाड़ियों के  आधार पर ओलंपिक के लिए तैयारियां कर सकेंगे. [Read More…]